poetry in hindi

एक शहर था...

Posted 9/13/2016

एक शहर था प्यारा फ़ूलों का

महका करती थी हर गली जिसकी

दिल दरिया हुआ करता था उसके लोगों का

समाते थे जिस में विभिन्न जाति प्रांत के लोग सभी

 

फिरते थे जब गली बाज़ारों में

अनेकों बोलियां श्रवण में आती थी

पोंगल दशहरा हब्बा ईद त्योहारों पर

गलियां एक सी सजती थी

 

फिर एक दिन सब कुछ बदल गया

सिक्का मतलबपरस्ती का मानो ऐसा चल गया

काम छोड़कर नामों मे पहचान हर किसी की ढूंढी गई

पानी ने आग लगा डाली पहले जो बुझाया करती थी

 

जल रहा वो शहर फूलों का

दहक रही हैं गलियां अब उसकी

तांडव हिंसा का चल रहा

कौन सुन रहा गुहार उसकी

ये जो है ज़िन्दगी…

Posted 5/18/2016

आजकल कुछ बदल सी गयी है ज़िन्दगी

चलती तो है मगर कुछ थम सी गयी है ज़िन्दगी

मानो मुट्ठी में सिमट ही गयी है ज़िन्दगी

साढ़े पांच इंच के स्क्रीन में कट रही है ज़िन्दगी

 

इंसानों से स्मार्ट फोनों में

बढ़ती भीड़ के तन्हा  कोनों में

लोगो की बंद ज़ुबानों में

कच्चे या पक्के मकानों में

 

बस अब अकेले मुस्कुराने का नाम है ज़िन्दगी

संग हमसफ़र के एकाकी बीतने का नाम है ज़िन्दगी

आजकल कुछ बदल सी गयी है ज़िन्दगी

चलती तो है मगर कुछ थम सी गयी है ज़िन्दगी

 

आजकल  बच्चे पड़ोस की घंटी नहीं बजाते

गुस्सैल गुप्ता जी का शीशा फोड़ भाग नहीं जाते

स्कूल बस के स्टॉप पे खड़ी मम्मियाँ आपस में नहीं बतियाते

दफ्तर से लौट दिन भर की खबर मांगने वाले वो पापा नहीं आते

 

अब फेसबुक पे लाइक और  चैट-ग्रुप में क्लैप करने का ढंग है ज़िन्दगी

फुल एचडी विविड कलर में भी बेरंग हो चली है ज़िन्दगी

आजकल कुछ बदल सी गयी है ज़िन्दगी

चलती तो है मगर कुछ थम सी गयी है ज़िन्दगी

क्यों (Why)

Posted 11/15/2015

कितने आंसू अब और बहेंगे
कितने ज़ुल्म यूँ और सहेंगे

वक़्त का एक लम्हा तो
इस ख़ौफ से सहमा होगा

ऐसी वहशत को इबादत समझे जो
शायद ही कोई ख़ुदा होगा

कितने आंसू अब और बहेंगे
कितने ज़ुल्म यूँ और सहेंगे

Read the rest of this entry »

ये जो देश है मेरा…

Posted 11/6/2015

कोई अच्छी खबर सुने तो मानो मुद्दत गुज़र गयी है
लगता है सुर्खियां सुनाने वालों की तबियत कुछ बदल गयी है

वहशियों और बुद्धीजीवियों में आजकल कुछ फरक दिखाई नहीं देता
कोई इज़्ज़त लूट रहा है तो कोई इज़्ज़त लौटा रहा है

बेवकूफियों को अनदेखा करने का रिवाज़ नामालूम कहाँ चला गया
आलम ये है के समझदारों के घरों में बेवकूफों के नाम के क़सीदे पढ़े जा रहे हैं

तालाब को गन्दा करने वाले लोग चंद ही हुआ करते हैं
भले-बुरे, ज़रूरी और फज़ूल की समझ रखनेवाले को ही अकल्मन्द कहा करते हैं

मौके के तवे पर खूब रोटियां सेंकी जा रहीं हैं
कल के मशहूरों के अचानक उसूल जाग उठें हैं

देश किसका है और किसका ख़ुदा
ईमान और वतनपरस्ती के आज लोग पैमाने जाँच रहे हैं

मैं तो अधना सा कवि हूँ बात मुझे सिर्फ इतनी सी कहनी है
क्यों न कागज़ पे उतारें लफ़्ज़ों में बहाएँ  सियाही जितनी भी बहानी है

फर्क जितने हों चाहे जम्हूरियत को हम पहले रखें
आवाम की ताक़त पे भरोसा कायम रखें

किये का सिला आज नहीं तो कल सब को मिलेगा
सम्मान लौटाने से रोटी कपडा या माकन किसी को न मिलेगा 

Read the rest of this entry »

ड़ोर dor

Posted 4/23/2015

उम्मीद की इक ड़ोर बांधे एक पतंग उड़ चली है

कहते हैं लोग के अब की बार
बदलाव की गर्म हवाएं पुरजोर चलीं हैं
 
झूठ और हकीक़त का फैसला करने की तबीयत तो हर किसी में है
कौन सच का है कातिल न-मालूम मुनसिब तो यहाँ सभी हैं
 
सुर्र्खियों के पीछे भी एक नज़र लाज़िमी है
गौर करें तो ड़ोर की दूसरी ओर हम सभी हैं
 
अपने मुकद्दर के मालिक हम खुदी हैं

yaari

Posted 4/23/2015

यादों के लम्बे पाँव अकसर 
रात की चादर के बाहर पसर जातें हैं

आवारा, बेखौफ़  ये हाल में  
माज़ी को तलाशा लिया करतें हैं
 
ख्वाबों में आने वाले  
खुली आँखों में समाने लगतें हैं
 
फिर एक बार बातों के सिलसिले 
वक्त से बेपरवाह चलतें हैं
 
वो नादान इश्क की दास्तानें  
वो बेगरज़ यारियाँ
 
समाँ कुछ अलग ही बँधता है  
जब बिछडे दोस्त मिला करतें हैं
 
यादों के लम्बे पाँव अकसर 
रात की चादर के बाहर पसर जातें हैं
Read the rest of this entry »

दिवाली diwali

Posted 4/23/2015

इस बरस दिवाली के दियों संग
कुछ ख़त भी जल गये 
कुछ यादों की लौ कम हुई 
कुछ रिश्ते बुझ गये 
भूले बंधनों के चिरागों तले अँधेरे जो थे
वो मिट गये
बनके बाती जब जले वो रैन भर
सारे शिकवे जो थे संग ख़ाक हो गये

उलफ़त ulfat

Posted 4/23/2015

उनकी उलफ़त का ये आलम है 
के कोरे कागज़ पे भी ख़त पढ़ लिया करतें हैं

ज़िन्दगी ऐसी गुलिस्तां बन गयी उनके प्यार में
के कागज़  के फूलों में ख़ुशबू ढूँढ लिया करतें हैं

हम तो फिर भी आशिक़ हैं 
मानने वाले तो पत्थर में ख़ुदा को ढूँढ लिया करतें हैं

parichay

Posted 4/23/2015

आज धूल चटी किताबों के बीच

ज़िन्दगी का एक भूला पन्ना मिल गया

धुँधले से लफ़्ज़ों के बीच
पहचाना सा एक चहरा खिल गया

अलफ़ाज़ पुराने यकायक जाग उठे
मानो सार नया  कोई मिल गया
दो पंक्तियों के चंद लमहों में
एक पूरा का पूरा युग बीत गया

 

आज धूल चटी किताबों के बीच

मुझ को मैं ही मिल गया

पहल a fresh start

Posted 4/23/2015
खुद से कुछ कम नाराज़ रहने लगा हूँ
 
ऐब तो खूब गिन चुका
खूबियाँ अपनी अब गिनने लगा हूँ मैं
 
आजकल एक नयी सी धुन में लगा हूँ
अपने ख्यालों को अल्फाजों में बुनने लगा हूँ मैं
 
गैरों के नगमे गुनगुनाना छोड़ रहा हूँ
अब बस अपने ही गीत लिखने चला हूँ मैं
Read the rest of this entry »

बादल clouds

Posted 4/23/2015
गुमनाम बिन पहचान फिरते रहते हैं ये
कैसे अनदेखे अनसुने से घिर आते हैं ये
उबाले समंदर के नहीं बनते है ये
बिन मौसम तो कम ही दिखतें हैं ये

मुरीदों की सौ सौ गुहार सुन
कभी चंद बूँदें तो कभी बौछार बरसा जातें हैं ये
ये बादल कभी सफ़ेद नर्म रुई से
तो कभी काले धुऐं की तरह छा जातें हैं
जाने कितनी उमीदों का बोझ ले कर चलते हैं ये
Read the rest of this entry »

यादें yaadein

Posted 4/23/2015

कुछ  यादें  एक  खलिश  सी  होती  हैं 

बरसों  दिल  में  सुलघ्ती  रहतीं   हैं

दबती  छुपती  तो  हैं  मगर  दहकती  रहतीं  हैं

बीतते  सालों  का  मरहम  पा  के  भी  दर्द  देती  हैं 

 

गुज़रा  वक़्त  सब  कुछ  भुला  नहीं  देता 

मन  में  बसा  चेहरा  धुन्दला  नहीं  देता

तेरी  मुस्कान  दिल   में  अभी  भी  गूंजती  हैं

ये पलकें  आज  भी  तुम  को  ढूँढती  हैं

तुम्हे  याद  कर  यह  आँखें  दो  बूँद  और  रो  देती  है

 

नहीं  लिखा  था  शायद  साथ   तुम्हारा 

होगी किसी  खुदा  की मर्ज़ी  पर  हमें  नहीं  है  गवारा 

गलती  तो  खुदा  से  भी  होती है

यादें  आ  आ  कर  बस  येही  सदा  देती  हैं

रंग rang

Posted 4/23/2015
इस रंग बदलती दुनिया से
हमने भी थोड़ा सीख लिया
कुछ दुनिया से  हमने रंग लिया
और खुद को थोडा बदल लिया
 
कभी किस्मत ने हमको गिरा दिया
तो कभी वक़्त ने हमें सता दिया
सब सोचें हमको क्या मिला
हम सोचें कितना जान लिया
Read the rest of this entry »

फुर्सत fursat

Posted 4/23/2015

ये फुर्सत क्यों बेवजह बदनाम है
क्यों हर कोई यह कहता के उसको बहुत काम है

इस तेज़ दौड़ती, बटे लम्हों में कटती ज़िन्दगी का, चलना ही क्यों नाम है
कैसे रूकें, कब थामें, एक पल को भी न आराम है

कब घिरे कब छटे ये बादल, आये गए जो मौसम सारे न किसी को सुध न ध्यान है
पलक झपकते बोले और चले जो, अपना खून खुद से अनजान है

ये फुर्सत क्यों बेवजह बदनाम है
बस यही तो है जो अनमोल हो कर भी बेदाम है

अनकही -The Unsaid

Posted 4/23/2015

मैंने अनकही सुनी है

सुनी है मैंने वो सारी बातें

जो किसी ने मुझसे न कही है

Read the rest of this entry »

ae zindagi

Posted 4/23/2015

ज़िंदगी तुझ से न कम मिला न ही ज़्यादा पाया
खुशियाँ मिली तो गमों का भी दौर आया
मिली दीवाली सी रोशनी तो कभी दिया तले अंधेरा पाया
तूने जब दी तनहाई मुड़ के देखा तो साथ कारवाँ पाया

Read the rest of this entry »