एक शहर था...

Posted 9/13/2016

एक शहर था प्यारा फ़ूलों का

महका करती थी हर गली जिसकी

दिल दरिया हुआ करता था उसके लोगों का

समाते थे जिस में विभिन्न जाति प्रांत के लोग सभी

 

फिरते थे जब गली बाज़ारों में

अनेकों बोलियां श्रवण में आती थी

पोंगल दशहरा हब्बा ईद त्योहारों पर

गलियां एक सी सजती थी

 

फिर एक दिन सब कुछ बदल गया

सिक्का मतलबपरस्ती का मानो ऐसा चल गया

काम छोड़कर नामों मे पहचान हर किसी की ढूंढी गई

पानी ने आग लगा डाली पहले जो बुझाया करती थी

 

जल रहा वो शहर फूलों का

दहक रही हैं गलियां अब उसकी

तांडव हिंसा का चल रहा

कौन सुन रहा गुहार उसकी