कश्मीर

Posted 8/10/2019





रौनक़ लगाते रौशन गली गलियारे
सजते थे सूखे चिनार के पत्ते सड़क किनारे


बर्फ़ की सफ़ेद चादर ओढ़े होते सर्द सवेरे
फ़िरन तले गरमी देते कांगड़ी के नर्म अंगारे

सिराज बाग़ में सजे लाखों फूल वो प्यारे
दल पे हौले सरकते छोटे बड़े सुंदर शिकारे

हरी हरी वादी के यादगार लुभावने नज़ारे
सैर सपाटे शांत बहते जहलम किनारे

हुस्न जिसका हर मौसम अलग निखारे
यूँ ही नहीं कहते थे इसे लोग जन्नत सारे

फिर मौसम बदला गूँजने लगे नारे
बिखरे अचानक ख़्वाब जो संवारे

मुट्ठी भर की ज़िद ने हज़ारों मारे
खेल खेलने लगे सियासतदाँ हमारे

पहचान हमारी जो है हमें झमूरियत पुकारे
ज़रूरी है के जब देश जीते कश्मीरियत ना हारे

FB

Twitter

Instagram

YouTube