पहल a fresh start

Posted 4/23/2015
खुद से कुछ कम नाराज़ रहने लगा हूँ
 
ऐब तो खूब गिन चुका
खूबियाँ अपनी अब गिनने लगा हूँ मैं
 
आजकल एक नयी सी धुन में लगा हूँ
अपने ख्यालों को अल्फाजों में बुनने लगा हूँ मैं
 
गैरों के नगमे गुनगुनाना छोड़ रहा हूँ
अब बस अपने ही गीत लिखने चला हूँ मैं
कुछ अपने से रंग तस्वीर में भरने लगा हूँ
आम से अलग एक पहचान बनाने चला हूँ मैं
 
अंजाम से बेफिक्र एक पहल करने चला हूँ
अपने अन्दर की आवाज़ को ही अपना खुदा मानने लगा हूँ मैं
 

खुद से कुछ कम नाराज़ रहने लगा हूँ