रिश्ता-ए-उम्मीद

Posted 5/16/2019

उम्र भर निभे ऐसी ही दोस्ती हो
कहाँ और किस किताब में लिखा है
गरज़ और ग़ुरूर के बाटों के बीच
हर रिश्ता कभी न कभी पिसा है

कुछ कही तो अक्सर अनकही
आदतों हरकतों का भी असर बड़ा है
कहते एक दूसरे को लोग कम मगर
ख़ुशहाल रिश्ते के आढ़े अरमान खड़ा है

बुरी आदत है ये उम्मीद रखने की
कमबख़्त कौन कभी इस पे खरा उतरा है
आइने में खड़े शक्स को भी ज़रा टटोलो
कौन सा वादा उसने भी कभी पूरा किया है